Sab Fijul Hai

मेरी शायरियों का बस इतना उसूल है

.

.

.
तुम वाह ! कहो तो मुकम्मल
बर्ना सब फिजूल है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *