उन्ही चीजों का शौक है हमे

कुछ चीजें पैसों से नही मिलती . . . . बस उन्ही चीजों का शौक है हमे

प्रेम क्या है

प्रेम… किसी दीवार पे लगी खूँटी पे टंगी शर्ट नहीं है, जिसे आप जब चाहे पहन लो या जब चाहे फिर खूँटी पे टांग दो। 💕💕💕💕💕💕 आप प्रेम में हो, तो निरंतर प्रेम में हो, दिखावे के लिये आप शायद बोल भी दो की प्रेम नहीं है, पर आपका मन …

सेहरी में पीये गए पानी की आखरी घूंट

एक सन्त ने एक बार बताया था कि मोहब्बत सेहरी में पीये गए पानी की आखरी घूंट की जैसी होनी चाहिए जिसके बाद दूसरे घूंट की गुंजाइश ही नहीं होनी चाहिए।

बड़े हो के बड़े रहना भी

अपनी मंज़िल पे पहुँचना भी खड़े रहना भी कितना मुश्किल है बड़े हो के बड़े रहना भी – शकील आज़मी

जितने सिक्कों से माँ मेरी नज़र उतारा करती थी

कमा के इतनी दौलत भी मैं अपनी ‪‎माँ‬ को दे ना पाया, . . . . के जितने सिक्कों से माँ मेरी नज़र उतारा करती थी..!!

आज भी भूख मिटती नहीं माँ

तेरी डिब्बे की वो दो रोटिया कही बिकती नहीं, माँ, महँगे होटलों में आज भी भूख मिटती नहीं माँ …!!

जब एक रोटी के चार टुकड़े हों

जब एक रोटी के चार टुकड़े हों और खाने वाले पाँच, . . . तब मुझे भूख नहीं है ऐसा कहने वाली इंसान है – माँ !

माँ सोती भी हैं, तो फिक्रमंद होती हैं

माना थक कर आँखे उसकी बंद होती हैं , पर माँ सोती भी हैं, तो फिक्रमंद होती हैं।

तपते बदन पर

तपते बदन पर भींगा रुमाल रखती है मां कितनी शिद्दत से मेरा ख्याल रखती है हैप्पी मदर्स डे

ऊपर जिसका अंत नहीं

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं , जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हैं।