जब थामा था हाथ तेरा पहली बार

जब थामा था हाथ तेरा पहली बार… . . . लगा जैसे किसी ने सर्दी में ठिठुरते हाथों में चाय कि प्याली दे दी हो 💓💓💓💓

तुम इश्क करो और दर्द न हो

तुम इश्क करो और दर्द न हो, . . . मतलब दिस्मबर की रात हो और सर्द न हो…!!!

दिसम्बर की सर्दी है उस के ही जैसी

दिसम्बर की सर्दी है उस के ही जैसी . . . ज़रा सा जो छू ले बदन काँपता है ❣️🌹

वही दिलकश दिसम्बर है

फिर से तेरी यादों का मेरे दिल में बबंडर है…!! . . . . वही मौसम, वही सर्दी, वही दिलकश दिसम्बर है…!!

पहली मोहब्बत की बददुआ ना लगे

हज़ार इश्क़ करो लेकिन इतना ध्यान रहे…. . . . . के तुमको पहली मोहब्बत की बददुआ ना लगे…

दिसंबर में लगे मोहब्बत की ठंड

तुझे दिसंबर में लगे मोहब्बत की ठंड, . . . . और तू मुझे तड़पकर मांगे चाय की तरह..

चाय और इश्क़

ता उम्र जलते रहते हैं धीमी आँच में, . . . इसीलिए “चाय”और “इश्क़” दोनों ही मशहूर हैं..

हम एक है

मैं जब भी टूटता हूँ, तो तुझे ढूंढता हूँ • • तु हमेशा कहती थी ना, कि हम एक है..!!

बहुत प्यार आता है तुम पर

मैंने कहा बहुत प्यार आता है तुम पर . . . . वो मुस्कुरा कर बोले और तुम्हे आता ही क्या है।

तुझे मुफ़्त में जो मिल गये हम

तुझे मुफ़्त में जो मिल गये हम . . . तू क़दर ना करें ये तेरा हक़ बनता है… .