नवम्बर से बचे हैं तो दिसम्बर ने मार डाला

तुम्हारे बाद ग़ुज़रे हैं भला कैसे हमारे दिन, नवम्बर से बचे हैं तो दिसम्बर ने मार डाला…

ऐ दिसम्बर तू सब कुछ ले आया है सिवाय उसके

ये सर्द हवाएँ,बिखरे पत्ते और तन्हाई, ऐ दिसम्बर तू सब कुछ ले आया है सिवाय उसके…

तू दिसम्बर की तरह है

ये कैसा ख्याल है तेरा, जो मेरा हाल बदल देता है, तू दिसम्बर की तरह है, जो पूरा साल बदल देता है..!