पुरुष का रोना

पुरुष रोता नहीं है पर जब वो रोता है, रोम-रोम से रोता है।

.

.

उसकी व्यथा पत्थर में दरार कर सकती है
~ हरिशंकर परसाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Whatsapp Facebook StatusJokes,Shayari,Quotes © 2021 Frontier Theme