न शोहरत की दरकार थी

न शोहरत की दरकार थी
न तोहमत से बैर था
उम्मीद इतना ही था की
वो अपना था गैर न था

~बेबाक इलाहाबादी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Whatsapp Facebook StatusJokes,Shayari,Quotes © 2021 Frontier Theme