कुछ कुछ इश्क़ सा था

एक मकाम तक आकर
उनका लौट जाना
मुड़ मुड़कर फिर आना
आकर सताना
न जाने क्यों
मेरी समझ से बाहर था
वो
कुछ कुछ इश्क़ सा था…..💕

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply