मैं रुई पर एक कविता लिखूँगा

मैं रुई पर एक कविता लिखूँगा और उसे तेल में डुबाकर दिया में सजाऊँगा फिर संसार के सबसे ऊंचे पर्वत पर जाकर मैं उस दीये को जलाऊँगा कविता में कुछ हो न हो उजाला जरूर होना चाहिए बस इतना उजाला जो अंधेरा हर सके। ~ देवेंद्र

एक अबोध बालक

तमाम प्रेम कविताओं और तरल सम्वेदनाओं के बावजूद नहीं पकड़ पाए वो रंग जिसमें डूब एक अबोध बालक बिल्ली के अक्ष्म बच्चे को सहलाता है छुप कर पालता है और उचित समय दूर कहीं पेड़ के नीचे सुरक्षित छोड़ निर्लप्त चला आता है फिर से कहीं और प्रेम बाँटने के …

मुझे छोड़कर जो तुम जाओगे , बड़ा पछताओगे बड़ा पछताओगे

दूध को गैस पर 2 मिनट छोड़ने के बाद दूध भी नसीहत देने लगता है . . . मुझे छोड़कर जो तुम जाओगे… बड़ा पछताओगे बड़ा पछताओगे 😂 😂

शिकायत

अब वक्त से शिकायतें मत रखिये न कि वह सही नहीं चल रहा,”हम बात नहीं कर पा रहे,तुम्हारी बकवास नहीं सुन पा रहा।” . . उन दिनों को भी तो याद करिये न ज़नाब जब मैं घण्टों बोलती थी आपका ज़वाब सिर्फ़ ‘हूँ’ होता था और आंखें मोबाइल स्क्रीन पर….. …

जूते की अभिलाषा

चाह नही मैं ब्रांडेड होकर अपने जीवन पर इतराऊँ चाह नही मैं विश्व सुंदरी के , पग में पहना जाऊँ चाह नही दूल्हे के पग में रह, साली को ललचाऊँ चाह नही धनीको के चरणों मे , हे हरि मैं डाला जाऊँ ए सी में रहूँ कालीन पर घूमूं , …

आप कैमरे की नजर में हैं

पहले दुकानों पर लिखा होता था, “ग्राहक भगवान है” तब देवताओ जैसी फीलिंग आया करती थी। अब लिखा होता है, “आप कैमरे की नजर में हैं” अब चोर जैसी फीलिंग आती है…. 😂😂😂😂 रिश्ता वही सोच नई…

अद्भुत कला

डकार मारने की Process के साथ साथ भगवान का नाम लेने की अद्भुत कला . . . . सिर्फ भारतीय लोगों में ही पाई जाती है। 😂😂 “हरि ओम”

जमाने की ऐसी की तैसी

हँसते रहिये, मुस्कुराते रहिये, ये चेहरे पर उदासी कैसी, जो पसंद आएँ उसे छिन लो, जमाने की ऐसी की तैसी..!! #ज़िंदगी

जिंदगी की परीक्षा

जिंदगी की परीक्षा में कोई नम्बर नहीं मिलते . . . लोग आपको दिल में जगह दे दे तो समझ लेना आप पास हो गये

Afwaah

हक़ीक़त को तलाश करना पड़ता है… . . . . अफवाहें तो घर बैठे आप तक पहुँच जाती है..