एक आख़िरी मुलाक़ात

एक आख़िरी मुलाक़ात को
बुलाया था उसने
मैं नहीं गया,

यूँ न जाकर
मैंने बचाये रखी
एक आख़िरी मुलाक़ात

~ पंकज विश्वजीत

मेरे हाथ अक्सर एक हाथ तलाशा करते है

मेरे हाथ अक्सर एक हाथ तलाशा करते है,

तुझसे गुजरे है, तेरा साथ तलाशा करते है

गालियां, वो सड़के, इश्क़ में थी सनी – सनी ,

ओस की बूंदों में वही रात तलाशा करते है

© नेहा नूपुर

किसीको मुझसे प्यार है तो बता दो

आखिरी बार पूछ रहा हू.. 🤓

किसीको मुझसे प्यार है तो बता दो 💃

*वर्ना “वेलेंटाइन डे” वाला पैसा* 💰

*म्यूचुयल फंड* में इन्वेस्ट कर दूंगा!😜
😂😂🤑😝😂😂