तरक़्क़ी

मैं गया था सोच कर, बात ‘बचपन’ की होगी,
दोस्त मुझे अपनी ‘तरक़्क़ी’ सुनाने लगे…..

Leave a Reply