लोग इसे मेरी मज़बूरी समझ बैठे

झुका हूँ तो कभी सिर्फ अपनों के लिए

.

.

.
और लोग इसे मेरी मज़बूरी समझ बैठे

Leave a Reply