कुछ लोग अपनें लम्हें सँवारने के लिए

कुछ लोग अपनें लम्हें सँवारने के लिए

.

.

.

.

दूसरों की सदियाँ वीरान कर देते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *