कड़वा सच

चापलूस और आलोचक मे केवल इतना अन्तर है कि चापलूस अच्छा बनकर बुरा करता है

.

.

.
और आलोचक बुरा बनकर अच्छा करता है

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

खून बिना छना पी जाते हैं

कुछ लोग जो पानी छानकर पीते हैं,

.

.

.

खून बिना छना पी जाते हैं

~ हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

पुरुष का रोना

पुरुष रोता नहीं है पर जब वो रोता है, रोम-रोम से रोता है।

.

.

उसकी व्यथा पत्थर में दरार कर सकती है
~ हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

मूर्खता से पैदा हुआ आत्मविश्वास

मूर्खता से पैदा हुआ आत्मविश्वास

.

.

.

सबसे बड़ा होता है!

हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

भगवान पांच लड़कियों के बाद

भगवान पांच लड़कियों के बाद

.

.

लड़का देकर अपने होने का सबूत देता रहता है।

~ हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

श्रम का पसीने

जिन्हें पसीना सिर्फ़ गर्मी और भय से आता है,

.

.

वे श्रम के पसीने से बहुत डरते हैं!

हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

आदमी क्‍या चूहे से भी बद्तर हो गया है

“आदमी क्‍या चूहे से भी बद्तर हो गया है? चूहा तो अपनी रोटी के हक के लिए मेरे सिर पर चढ़ जाता है, मेरी नींद हराम कर देता है”

~ हरिशंकर परसाई (“चूहा और मै”)

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

अर्थशास्त्र जब धर्मशास्त्र के ऊपर चढ़ बैठता है

“अर्थशास्त्र जब धर्मशास्त्र के ऊपर चढ़ बैठता है तब

.

.

गोरक्षा आन्दोलन के नेता जूतों की दुकान खोल लेते हैं।”
~ हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास 

इस देश के बुद्धिजीवी शेर हैं

“इस देश के बुद्धिजीवी शेर हैं,

.

.

पर वे सियारों की बरात में बैंड बजाते हैं।” 😅
~ हरिशंकर परसाई

आपको यह पोस्ट कैसा लगा
  • लाजवाब 
  • बढ़िया 
  • ख़राब 
  • बकवास