बड़े हो के बड़े रहना भी

अपनी मंज़िल पे पहुँचना भी खड़े रहना भी
कितना मुश्किल है बड़े हो के बड़े रहना भी
– शकील आज़मी

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply