सलीका नक़ाब का

सलीका नक़ाब का भी

तुमने अजब कर रखा है।

जो आँखे हैं क़ातिल,

उन्हीं को खुला छोड़ रखा है।।

34

Leave a Reply