खूबसूरती न सूरत में है

खूबसूरती न सूरत में है… न लिबास में है… निगाहें जिसे चाहे… उसे हसीन कर दें…

महोब्बत लिबास नही जो हर रोज़ बदला जाए

महोब्बत लिबास नही जो हर रोज़ बदला जाए महोब्बत कफ़न है पहन कर उतारा नही जाता ……….!