स्पर्श बता देता है नीयत कैसी है

घमण्ड बता देता है कितना पैसा है । #मर्यादा बता देती है परिवार कैसा है ।। बोली बता देती है इंसान कैसा है । बहस बता देती है ज्ञान कैसा है ।। नजरें बता देती है सूरत कैसी है । स्पर्श बता देता है नीयत कैसी है ।। #बज़्म

चाय ठंडी होती गई

बैठे चाय की प्याली लेकर पुराने किस्से याद करने… चाय ठंडी होती गई और किस्से गरम होते गये !!

सेल्फी लेना मजबूरी हो गया है

बाहर जाकर सेल्फी लेना मजबूरी हो गया है खुश दिखना, खुश रहने से जरूरी हो गया है,

जो मुझे बस खोने से डरता हो

कोई ऐसा सख्श मुझे भी दे… ऐ मौला.. जो मुझे बस खोने से डरता हो…!!!

मिले तुम भी नहीं

नहीं मिला मुझे कोई तुम जैसा आज तलक, पर ये सितम अलग है कि मिले तुम भी नहीं..!

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई.

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई., न वो वापस लौटीं, न मोहब्बत दोबारा हुई..

तुमने तो फिर भी सीख लिए दुनिया के चाल चलन

तुमने तो फिर भी सीख लिए दुनिया के चाल चलन… हम तो कुछ भी ना कर सके बस मुहब्बत के सिवा !!

तीन ही तो शौक़ हैं मेरे

तीन ही तो शौक़ हैं मेरे… शाम की चाय, शायरी और तुम….! ☕😊 😊☕

बढ़ रही हैं तुमसे दूरियाँ

बढ़ रही हैं तुमसे दूरियाँ… आ बैठ गलत फमहियाँ मिटाते हैं…