जो हासिल ना हो सका

मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में…. बस हम गिनती उसी की करते है, जो हासिल ना हो सका….

सब कुछ हासिल नही होता ज़िंदगी मे यहाँ

सब कुछ हासिल नही होता ज़िंदगी मे यहाँ किसी का “काश” तो किसी का अगर रह ही जाता है ….