Category: <span>दिल की बात</span>

Category: दिल की बात

एक आख़िरी मुलाक़ात

एक आख़िरी मुलाक़ात को
बुलाया था उसने
मैं नहीं गया,

यूँ न जाकर
मैंने बचाये रखी
एक आख़िरी मुलाक़ात

~ पंकज विश्वजीत

“औरत” को हमेशा “घुंघट” में रहना चाहिए

मास्क लगाकर दो महीने में ही थक गया वो आदमी

जो कहता था कि

.

.

औरत” को हमेशा “घुंघट” में रहना चाहिए !!

प्रेमिकाएँ पत्नियाँ होना चाहती रहीं

प्रेमिकाएँ पत्नियाँ होना चाहती रहीं…

और पत्नियाँ प्रेमिकाएँ….

.

.

.

कोई पुरुष किसी स्त्री को शायद पूरा मिला ही नहीं…