Category: सुविचार

मौन

मौन

.

क्रोध की सर्वोत्तम चिकित्सा है।

~ स्वामी विवेकानंद

कोई व्यक्ति कितना ही महान क्यों न हो,

कोई व्यक्ति कितना ही महान क्यों न हो,आँखें मूंदकर उसके पीछे न चलिए।
यदि ईश्वर की ऐसी ही मंशा होती तो वह हर प्राणी को आँख,नाक,कान,मुँह, मस्तिष्क आदि क्यों देता..??

कानंद~स्वामी विवे

संदेह और विश्वास

” संदेह “मुसीबत के पहाड़ों का निर्माण करता हैं,

.

.

.

और ” विश्वास ” पहाड़ों में से भी रास्ते का निर्माण करता है*👍

मरने के बाद

आदमी
मरने के बाद
कुछ नहीं सोचता।

आदमी
मरने के बाद
कुछ नहीं बोलता।

कुछ नहीं सोचने
और कुछ नहीं बोलने पर
आदमी
मर जाता है।

– उदय प्रकाश

Tin Chije

तीन चीज़ें कोई चुरा नहीं सकता…

अक़्ल..

चरित्र…

हुनर…

Whatsapp Facebook StatusJokes,Shayari,Quotes © 2021 Frontier Theme