समाज की विडंबना

” दामाद ” अच्छे हैं … क्योंकि
” ‌‌बेटी ” को खुश रखते हैं ….

” बेटा ” बुरा है … क्योंकि
” बहू ” को खुश रखता है ….

ये कैसी अजीब विडंबना है समाज की 🤔

हमने 2 ग्रुप बनाये

हमने 2 ग्रुप बनाये :

एक को “जिम” 🏋भेजा और एक को “योगा”🧘‍♂ करवाया..

लेकिन !

सबसे ज्यादा खुश वे लोग पाए गए जिन्होंने बिस्तर पर लेट कर
Mobile चलाया..!!
😂😂😜
#🧘🏻‍♂️अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

आज की पीढ़ी क्या जाने

आज की पीढ़ी क्या जाने…

बचपन मे स्कूल के समय हमारा तो हर दिन “योगा डे” होता था…

जब …

.

.

.

.

टीचर हमे “मुर्गा” बनने को कहते थे..!!!
#🧘🏻‍♂️अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस
😝😝😝