काग़ज़ का बदन

ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन ,

.

.

.
दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो ।।

~राहत इंदौरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *