तुम दिल्ली की इठलाती मेट्रो

तुम दिल्ली की इठलाती मेट्रो
मैं कलकत्ते का सहमा ट्राम प्रिये

तुम अंग्रेजी की पॉपुलर लेक्चरर
मैं हिंदी का लेखक गुमनाम प्रिये

जब प्रेम का इज़हार करेंगे

जब प्रेम का इज़हार करेंगे हम
हमारी कोई भी महान उपलब्धि
काम नहीं आएगी

काम आएगा सिर्फ़
स्त्री के क़दमों में बैठ
काँपते हाथों से फूल देना

मोहब्बत अपने अंजाम पर कब पहुँचती है

भक्त – बाबा मोहब्बत अपने अंजाम पर कब पहुँचती है
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
बाबा ‐ जब कमरे की व्यवस्था हो जाती है
😂🙈😂🙈😂🙈😂🙈😂🙈😂🙈😂