कुछ ज़ख़्म ऐसे भी होंगे

कुछ ज़ख़्म ऐसे भी होंगे, जिन्हें वक़्त भर लेगा, . . . पर पहली नज़र के वार की बात ही कुछ और है..

माँ की आँखों को अश्कों से सँवारना नही है तुझे

माँ की आँखों को अश्कों से सँवारना नही है तुझे गिरते हुए को उठाना है मारना नही है तुझे ..!! हर मात पर याद आती है मुझे वालिद की वो बात ज़िन्दगी कितनी भी शिकस्त दे हारना नही है तुझे !! #FathersDay

बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फासला रखना

बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फासला रखना . . . समंदर से मिले दरिया तो फिर दरिया नहीं रहता -बशीर बद्र

उसकी मोहब्बतों का कैसे हिसाब हो

उसकी मोहब्बतों का कैसे हिसाब हो, . . . जो गले लग कर कहे तुम बहुत खराब हो।

बस एक बार किसी ने गले लगाया था

बस एक बार किसी ने गले लगाया था फिर उस के बाद न मैं था न मेरा साया था #ज़फ़र_इक़बाल #UrduPoetry

न शोहरत की दरकार थी

न शोहरत की दरकार थी न तोहमत से बैर था उम्मीद इतना ही था की वो अपना था गैर न था ~बेबाक इलाहाबादी

एक बात पूछनी थी

एक बात पूछनी थी . . . . . . . ये लड़कियां बात बात पर कान के ऊपर से बालों को पीछे क्यों करती हैं ? 🤔🤔😂