हजार के नोटों से तो बस अब जरूरत पूरी होती है

हजार के नोटों से तो बस अब जरूरत पूरी होती है, मजा तो ” माँ ” से मांगे एक रूपये के सिक्के में था।