बस इतनी पाकीज़ा रहे

बस इतनी पाकीज़ा रहे आइना-ए-ज़िंदगी
जब ख़ुद से मिलाएँ नज़र, शर्मसार ना हों…!

Leave a Reply