जिन्दगी का अजीब किस्सा है

जिन्दगी का अजीब किस्सा है अजनबी हाल पूछ रहे हैं और अपनों को खबर तक नहीं Like Like Love Haha Wow Sad Angry 122

मैं वो फल हूँ जो अपनो के पत्थर से टूटा हूँ

तू रंज न कर मैं तुझसे नही खुद से रुठा हूँ.. मैं वो फल हूँ जो अपनो के पत्थर से टूटा हूँ.. Like Like Love Haha Wow Sad Angry 2

दर्द भी वही देते हैं

दर्द भी वही देते हैं जिन्हे हक दिया जाता हो वर्ना गैर तो धक्का लगने पर भी माफी माँग लिया करते हैं.. Like Like Love Haha Wow Sad Angry 1