तुम्हारे बाद ग़ुज़रे हैं भला कैसे हमारे दिन,

नवम्बर से बचे हैं तो दिसम्बर ने मार डाला…

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *