आशियाने बनें भी
तो कहाँ जनाब…
जमीनें महँगी हो चली हैं
और

दिल में लोग जगह नहीं देते..

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *