दिल में लोग जगह नहीं देते..

आशियाने बनें भी तो कहाँ जनाब… जमीनें महँगी हो चली हैं और दिल में लोग जगह नहीं देते..

वाकई पत्थर दिल ही होते हैं शायर

वाकई पत्थर दिल ही होते हैं शायर…!! वर्ना अपनी आह पर वाह सुनना कोई मज़ाक नहीं…!!

सुख मेरा, काँच सा था..

सुख मेरा, काँच सा था.. ना जाने कितनों को चुभ गया

रोज़ रोज़ जलते हैं

रोज़ रोज़ जलते हैं, फिर भी खाक़ न हुए, अजीब हैं कुछ ख़्वाब भी, बुझ कर भी राख़ न हुए…

मिले तुम भी नहीं

नहीं मिला मुझे कोई तुम जैसा आज तलक, पर ये सितम अलग है कि मिले तुम भी नहीं..!

साँसों का टूट जाना तो बहुत छोटी सी बात है

साँसों का टूट जाना तो बहुत छोटी सी बात है दोस्तो, जब अपने याद करना छोड़ दे, मौत तो उसे कहते है !!

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई.

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई., न वो वापस लौटीं, न मोहब्बत दोबारा हुई..

तुमने तो फिर भी सीख लिए दुनिया के चाल चलन

तुमने तो फिर भी सीख लिए दुनिया के चाल चलन… हम तो कुछ भी ना कर सके बस मुहब्बत के सिवा !!

अब नज़र से जिस्म छिल जाने का ख़ौफ़ है

अब नज़र से जिस्म छिल जाने का ख़ौफ़ है, आजकल पोशाकों में अस्तर नहीं मिलते…! #Shayari

बढ़ रही हैं तुमसे दूरियाँ

बढ़ रही हैं तुमसे दूरियाँ… आ बैठ गलत फमहियाँ मिटाते हैं…